Aarambh hai prachand lyrics:

Aarambh Hai Prachand (आरंभ है प्रचंड) lyrics in Hindi

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो| (2)

आन-बान शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो|

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन-बान शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो|

आरंभ है प्रचंड…

मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है| (2)

कृष्ण की पुकार है
ये भागवत का सार है
कि युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है
कौरोवों की भीड़ हो या
पांडवों का नीड़ हो
जो लड़ सका है वो ही तो महान है|

जीत की हवस नहीं
किसी पे कोई वश नहीं
क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यूँ डरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो|

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन-बान शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो|

आरंभ है प्रचंड…

वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो | (2)

या की पुरे भाल पे जला रहे विजय का लाल
लाल यह गुलाल तुम ये सोच लो
रंग केशरी हो या मृदंग केशरी हो
या कि केशरी हो ताल तुम ये सोच लो|

जिस कवि की कल्पना में ज़िन्दगी हो प्रेम
गीत उस कवि को आज तुम नकार दो
भीगती मासों में आज,फूलती रगों में आज
आग की लपट का तुम बघार दो |

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन-बान शान या कि जान का हो
दान आज एक धनुष के बाण पे उतार दो|

आरंभ है प्रचंड…(3)

“Aarambh Hai Prachand” (आरंभ है प्रचंड) Lyrics in Hinglish:

Aarambh hai prachand, bole mastakon ke jhund
Aaj jang ki ghadi ki tum guhaar do (2)

Aan-baan-shaan ya ki jaan ka ho daan
Aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

Aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
Aaj jang ki ghadi ki tum guhaar do
Aan-baan-shaan ya ki jaan ka ho daan
Aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

Aarambh hai prachand…

Man kare so praan de
Jo man kare so praan le
Vohi toh ek sarvashaktimaan hai (2)

Krishn ki pukaar hai
Ye Bhagvat ka saar hai
Ki yuddh hi toh veer ka pramaan hai
Kaurovon ki bheed ho ya
Pandavon ka need ho
Jo ladh saka hai vohi toh mahaan hai

Jeet ki havas nahi
Kisi pe koi vash nahi
Kya zindagi hai thokron pe maar do
Maut ant hai nahi toh maut se bhi kyun darein
Ye jaake aasmaan mein dhaad do

Aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
Aaj jang ki ghadi ki tum guhaar do
Aan-baan-shaan ya ki jaan ka ho daan
Aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

Aarambh hai prachand…

Vo daya-bhaav ya ki shaurya ka chunaav
Ya ki haar ka vo ghaav, tum ye soch lo (2)

Ya ki pure bhaal pe jala rahe vijay ka laal
Laal yeh gulal, tum ye soch lo
Rang keshri ho ya mridang keshri ho
Ya ki keshri ho taal, tum ye soch lo

Jis kavi ki kalpana mein zindagi ho prem
Geet us kavi ko aaj tum nakar do
Bheegti maason mein aaj, phoolti ragon mein aaj
Aag ki lapat ka tum baghaar do

Aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
Aaj jang ki ghadi ki tum guhaar do
Aan-baan-shaan ya ki jaan ka ho daan
Aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

Aarambh hai prachand…(3)

“Aarambh Hai Prachand” (आरंभ है प्रचंड) Lyrics in English:

The beginning is powerful, the masses roar in unison
Today, you raise the voice of war (2)

Whether it’s pride, honor, or the offering of life
Today, place it on the arrow of a bow

The beginning is powerful, the masses roar in unison
Today, you raise the voice of war
Whether it’s pride, honor, or the offering of life
Today, place it on the arrow of a bow

The beginning is powerful…

If the heart desires, give your life
Whoever desires, take their life
He alone is an almighty force (2)

It’s the call of Krishna
This is the essence of Bhagavad Gita
That only through battle can one prove their valor
Be it amidst the ranks of the Kauravas
Or amidst the needs of the Pandavas
Those who fought are truly great

It’s not the greed for victory
No one has control over others
What is life but facing the blows with determination
Death is not the end, so why fear death
Roar into the sky

The beginning is powerful, the masses roar in unison
Today, you raise the voice of war
Whether it’s pride, honor, or the offering of life
Today, place it on the arrow of a bow

The beginning is powerful…

Whether it’s compassion and empathy or the choice of courage
Or the scars of defeat, you think about it (2)

Or if you’re burning victory’s red color on your forehead
Think about it, it’s the red gulal
Whether it’s a saffron color or the color of the mridang (a musical instrument)
Or the rhythm of the beats, you think about it

In the poet’s imagination, where life is filled with love
Today, you deny that poet’s song
In the pouring rains today, in the blooming colors of emotions today
Quench the blaze of fire

The beginning is powerful, the masses roar in unison
Today, you raise the voice of war
Whether it’s pride, honor, or the offering of life
Today, place it on the arrow of a bow

The beginning is powerful…(3)

इस गीत में किस विषय पर ध्यान केंद्रित किया गया है?
क्या आपको लगता है कि जीवन में आरंभ होना बहुत महत्वपूर्ण है और आपको अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए तैयारी करनी चाहिए?
कौन से संगठन और संघर्षों का उल्लेख किया गया है इस गीत में? आपके लिए कौन सा विचार ज्यादा प्रभावशाली लगा?
गीत में कवि द्वारा बताए गए व्यक्तित्व का आपके जीवन से कैसे संबंध हैं? क्या आप उन्हें प्रेरणादायक मानते हैं?
आपको जीवन में आने वाले चुनौतियों और संघर्षों के सामना करने की क्या रणनीति है? कैसे आप विभिन्न स्थितियों का सामना करेंगे ?

Leave your comment